उत्तर प्रदेश

Bakhira Lake: अपने बदहाली पर आंसू बहा रही है बखिरा झील, सुंदरीकरण का देख रही रास्ता

“नरगिस अपनी बेनुरी पर हजारों साल रोती है, वह बड़ी मुश्किल से चमन में दीदवार कोई में पैदा होती है” एक प्रसिद्ध कवि की ये पंक्तियाँ भारत की महान झीलों में से एक – बखिरा झील पर बिल्कुल फिट बैठती हैं। हजारों एकड़ क्षेत्र में फैली यह झील आज अपने स्थान पर आंसू बहा रही है, इसलिए झील का सौंदर्यीकरण नहीं होने के कारण अब यह झील झाड़ी में बदल गई है, जो कि यहां से काफी घातक साबित होती है। पर्यटन की दृष्टि से। प्रशासनिक उपेक्षा के कारण अब इस झील में आने वाले पर्यटकों की संख्या न के बराबर हो गई है, क्योंकि यह कभी पर्यटकों और प्रवासी पक्षियों से गुलजार रहता था।

यह उत्तर प्रदेश राज्य में संत कबीर नगर जिले के मुख्यालय खलीलाबाद से लगभग 20 किमी की दूरी पर स्थित है। इसका क्षेत्रफल 28.94 किमी से अधिक है। इतिहास के पन्नों पर मोतीझील के नाम से अंकित बखीरा झील को उत्तर प्रदेश सरकार ने 14 मई 1990 को नोटिस जारी कर “बखीरा पक्षी अभयारण्य” का दर्जा दिया था।

झील में पक्षियों का शिकार प्रतिबंधित है

तब से, झील में पक्षियों के शिकार पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। विदेशों से आने वाले पर्यटकों के जीवन की रक्षा करने और पर्यटन की दृष्टि से यह कहा जाता था कि यह स्थान राष्ट्रीय बोर्ड पर स्थापित किया जाएगा, जो केवल कागजों पर ही निकलता है। इस झील को महाराजगंज के सहगी बड़वां क्षेत्र से जोड़कर 1997 में यहां रेंज ऑफिस की स्थापना की गई थी, लेकिन समय के साथ सत्ता बदली, निजाम बदल गए, लेकिन बखिरा झील का स्वरूप आज भी वैसा ही है।

पर्यटकों की संख्या दिन-ब-दिन कम होती जा रही है।

बखिरा झील का दर्जा प्राप्त करने के बाद मंशा यह थी कि मेहदावल रोड पर बखिरा शहर के पूर्वी भाग में स्थित खलीलाबाद से 16-20 किमी के उत्तरी भाग में स्थित यह पक्षी, में घूमते पक्षियों को देखने के लिए एक पर्यटक था। बिहार की सबसे बड़ी भूमि। यहां आ सकते हैं, लेकिन झील का विस्तार नहीं होने के कारण इन पर्यटकों की संख्या दिन-ब-दिन कम होती जाती है।

जांच के दौरान जब टीम ने पर्यटकों से बात की तो उन्होंने बताया कि उन्होंने झील का नाम तो बहुत सुना है लेकिन यहां ऐसा कुछ भी नहीं है जो कहीं भी प्रशासनिक उपेक्षा को दर्शाता हो. यदि इसकी देखभाल से इसे सुशोभित किया जाए तो झील का स्वरूप बदल सकता है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button