स्वास्थ्य

ब्लैक फंगस के फैलने का कारण कहीं भाग लेना और कूलर की हवा तो नहीं है इन्हीं सवालों को जानने के लिए देखिए यह स्पेशल खबर

कोरोना महामारी के बीच ऐसी बीमारियां भी पैदा हो रही हैं कि लोगों में डर का माहौल फैल गया है. हाल के दिनों में ब्लैक पंकज व्हाइट फंगस और यलो फंगस नाम की एक नई बीमारी के मामले सामने आए हैं, अब सोशल मीडिया पर ऐसी कई जानकारियां फैलाई जा रही हैं, गलत सूचनाएं मिल रही हैं, जिससे डर का माहौल है। लोगों के बीच, हालांकि उन्हें बताया जाता है कि इस पंकज को सिर से सावधान रहने से लड़ा जा सकता है, हालांकि यह और भी देखा गया है कि कोरोना से ठीक होने वाले मरीजों को मैंने और देखा है, आप भी इस बीमारी से कैसे बच सकते हैं

जिससे संक्रमण फैलता है

यह कवक नाक के माध्यम से प्रवेश करके रक्त वाहिकाओं को बंद कर देता है, दूसरे के क्षेत्र में रक्त की आपूर्ति को रोकता है, जहां से नाक में वजन होता है, यह साइनस के सामने जाता है जो गाल है। साइनस की हवा नाक के पास होती है, आंख नाक के करीब होती है, वहां से यह आंख में प्रवेश करती है और इसके बाद यह नुकसान करती रहती है।

काला फंगस भाप लेने से नहीं खेलता

एम्स के डॉक्टरों ने कहा कि भाप लेने से न्यूकोर माइकोसिस होने का खतरा बढ़ जाता है लेकिन ऐसा नहीं है

काली फंगस ठंडी हवा से भी नहीं फैलती

सोशल मीडिया पर कई ऐसे दावे किए गए कि काली फंगस की बीमारी ठंडी हवा से फैलती है, लेकिन यह पूरी तरह गलत है। यह आसपास भी हो सकता है लेकिन यह एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में नहीं खेलता है, आपको यह जानकर भी आश्चर्य होगा कि यह इंसानों को भी हो सकता है लेकिन लोगों को यह वायरस शरीर पर भी मिल सकता है लेकिन यह संक्रमण उसी व्यक्ति से आता है जिसे कम प्रतिरोध

ध्यान देने योग्य बातें

अगर कोई शुगर का मरीज है तो उसकी नियमित शुगर की जांच करते रहें, दूसरा, अगर आप इस टॉरॉयड का सेवन कर रहे हैं, तो अपने डॉक्टर की सलाह पर ही लें और अगर आपको कोई पहला लक्षण दिखाई दे तो लापरवाह होने पर तुरंत डॉक्टर के पास जाएँ . तो हो सकता है बड़ा नुकसान

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button