बिज़नेस

Good News : रेटिंग एजेंसी Moody's का अनुमान, मौजूदा वित्त वर्ष में 9.5 प्रतिशत रह सकता है भारत का GDP

एक तरफ हालिया वैश्विक संकट और यूक्रेन पर रूस के हमले से जहां चारों तरफ तनाव का माहौल है. दुनिया भर के शेयर बाजार इस दबाव का सामना नहीं कर पा रहे हैं और लगातार गिरावट का सामना कर रहे हैं। कच्चे तेल की कीमत 100 डॉलर प्रति बैरल के करीब पहुंच गई है, जिससे आने वाले दिनों में फिर से महंगाई का खतरा बढ़ गया है. ऐसे में भारत के लिए अच्छी खबर आई है।

दरअसल, अंतरराष्ट्रीय क्रेडिट रेटिंग एजेंसी मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस ने चालू वित्त वर्ष 2021-22 के दौरान भारत की विकास दर 9.5 फीसदी आंकी है। आपको बता दें कि क्रेडिट रेटिंग एजेंसी ने पहले यह ब्याज दर 7 फीसदी रहने का अनुमान लगाया था।

भारतीय अर्थव्यवस्था तेजी से पटरी पर

क्रेडिट रेटिंग एजेंसी मूडीज ने अपनी रिपोर्ट ग्लोबल मेट्रो आउटलुक 2022 23 में कहा है कि कोरोना महामारी और इसकी दूसरी लहर के बाद भारतीय अर्थव्यवस्था तेजी से ठीक हो रही है। कर रही है। भारतीय अर्थव्यवस्था के सही रास्ते पर जल्दी लौटने की उम्मीद है।

ग्रोथ रेट आरबीआई के अनुमान से ज्यादा

मूडीज ने अनुमान लगाया है कि वित्त वर्ष 2022 23 के दौरान भारतीय अर्थव्यवस्था में 8.4 प्रतिशत की वृद्धि होगी। वहीं मूडीज का यह भी कहना है कि यह भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के अनुमान से 60 अंक अधिक है। यहां आपको बता दें कि आरबीआई ने अनुमान लगाया है कि 2022-23 में भारतीय अर्थव्यवस्था 7.8 फीसदी की दर से बढ़ेगी।

..तो इसका नकारात्मक प्रभाव हो सकता है

मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस के अनुसार, भारत में कर संग्रह में हालिया उछाल देखा गया है। खुदरा गतिविधि बहुत बड़ी है। इसके अलावा, PMI (परचेजिंग मैनेजर इंडेक्स) में सुधार हुआ है। हालांकि मूडीज ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि ईंधन की बढ़ती कीमतों और आपूर्ति बाधित होने से अर्थव्यवस्था पर भी इसका नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है।

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

Back to top button