उत्तर प्रदेश

Gopal Jayanti Mathura: कार्ष्णि उदासीन आश्रम रमणरेती में गोपाल जयंती पर संतों का समागम, योग गुरु बाबा बाबा रामदेव भी हुए उपस्थित

गोपाल जयंती के दूसरे दिन कृष्ण उदासी आश्रम रामनरती में सुबह नौ बजे संतों की सभा शुरू हुई, जिसके चलते दूर-दूर से महामंडलेश्वर गुरु की महिमा का विस्तार से वर्णन करने लगे। योग गुरु बाबा रामदेव ने कहा कि सबसे बड़ा योग है अपने जीवन में शांति बनाना, योग करने से शरीर स्वस्थ और मजबूत बनता है।

बाबा रामदेव ने कहा कि दही के सेवन से शरीर के सभी रोग दूर हो जाते हैं। योग गुरु रामदेव ने भी गुरु की महिमा पर प्रकाश डाला, गुरु के बिना जीवन अधूरा माना जाता है, गुरु ही सही मार्ग पर चलने की प्रेरणा देता है।

यूक्रेन और रूस में जंग को लेकर योग गुरु ने कहा- हमारा देश शांति चाहता है

मंच पर योग गुरु ने मोर पर चलकर हाथों को मजबूत करने की बात की, कपाल भाति, अलोम विलोम, प्राणायाम जैसे कई योगों की चर्चा की। यूक्रेन और रूस के बीच युद्ध के बारे में बाबा रामदेव ने कहा कि हमारा देश शांति चाहता है क्योंकि हमारा देश मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम, योगीराज भगवान श्री कृष्ण, महात्मा बुद्ध, कई संतों और महापुरुषों की भूमि है।

महाभारत में, भगवान कृष्ण शांति के दूत के रूप में कौरवों के पास गए थे। महामंडलेश्वर संपूर्ण नंद महाराज ने कहा कि जब भगवान विश्व भ्रमण के लिए आएंगे तो यमुना के तट पर रमण बिहारी के खूबसूरत स्थान रामनरती आश्रम का आनंद जरूर लेंगे।

मनुष्य सौ वर्ष जीना चाहता है – गोविंद देव गिरि महाराज

महामंडलेश्वर मलूक पीठाधीश्वर राजेंद्र दास महाराज ने कहा कि हमारी भाषा संस्कृत है, संस्कृत में प्रकाशित पुस्तक अमृत के समान है। महामंडलेश्वर गोविंद देव गिरि महाराज ने कहा है कि एक आदमी सौ साल जीने का प्रयास करता है, लेकिन जो भगवान को समर्पित है उसे ही सौ साल जीना चाहिए।

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

Back to top button