बिज़नेस

GST Collection 2022: GST वसूली का आंकड़ा जारी, कोरोना प्रतिबंधों के बावजूद लगातार चौथी बार 1.30 लाख करोड़ के पार

देश में महंगाई है, लेकिन फरवरी 2022 में जीएसटी संग्रह बढ़कर 133026 करोड़ रुपये हो गया। ऐसे में केंद्र सरकार के लिए यह बड़ी राहत की खबर है। वैसे सरकार ने बजट पेश होने के एक दिन पहले (बजट 2022-23) जनवरी 2022 के जीएसटी कलेक्शन के आंकड़े जारी कर दिए थे.

आपको बता दें कि जीएसटी वसूली का यह आंकड़ा फरवरी 2021 के मुकाबले 18 फीसदी ज्यादा है। वहीं, फरवरी 2020 की तुलना में 26 फीसदी संग्रह बढ़ा है। यह लगातार पांचवां महीना है जब जीएसटी संग्रह 1.30 लाख करोड़ रुपये से अधिक है। .

फरवरी में सीजीएसटी संग्रह 24435 करोड़ रुपये

फरवरी में सीजीएसटी संग्रह 24435 करोड़ रुपये, एसजीएसटी संग्रह 30779 करोड़ रुपये, आईजीएसटी संग्रह 67471 करोड़ रुपये और उपकर 10340 करोड़ रुपये था। फरवरी में नियमित परिसमापन के बाद केंद्र सरकार का राजस्व 50782 करोड़ रुपये रहा है। इस दौरान राज्यों का कुल राजस्व 52688 करोड़ रुपये रहा है।

अब तक की सबसे ज्यादा रिकवरी

यह जीएसटी के इतिहास में तीसरा सबसे बड़ा संग्रह है। वित्त मंत्रालय की ओर से पेश की गई जानकारी के मुताबिक इस साल की शुरुआत में इस साल जनवरी में सरकार ने 140,986 करोड़ रुपये की कमाई की थी, जो अब तक का सबसे ज्यादा कलेक्शन है. इससे पहले अप्रैल 2021 में जीएसटी संग्रह 139,708 करोड़ रुपये था, जो दूसरा सबसे अधिक संग्रह है। इसके बाद फरवरी 2022 में सरकार ने तीसरी बार सबसे ज्यादा 133026 करोड़ रुपये की कमाई की है.

नौवीं बार एक मिलियन बिलियन के पार

महीने की रिकवरी-

  • -अप्रैल 139708 करोड़
  • -जुलाई 116393 मिलियन रु
  • -अगस्त 112020 करोड़
  • -सितंबर 117010 करोड़ रु
  • अक्टूबर 130127 करोड़
  • -नवंबर 131526 करोड़
  • दिसम्बर 129780 करोड़
  • -जनवरी 140986 करोड़
  • फरवरी 133026 करोड़

महामारी प्रतिबंधों का जीएसटी संग्रह पर कोई असर नहीं पड़ा

गौरतलब है कि जनवरी में कोरोना वायरस के चलते कुछ राज्यों में प्रतिबंध भी लगाया गया था। इसके बावजूद जीएसटी संग्रह में बढ़ोतरी हुई है, यह इस बात का भी संकेत देता है कि कोविड-19 की तीसरी लहर का कोई खास असर नहीं दिखा है और चौथी तिमाही भी अच्छी रहेगी. लेकिन इसका असर सोमवार को आए आर्थिक आंकड़ों पर जरूर पड़ा। तीसरी तिमाही में जीडीपी ग्रोथ 5.4 फीसदी रही, जो दूसरी तिमाही की तुलना में 3 फीसदी कम है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button