Festivals

Makar Sankranti 2023 | मकर संक्रांति कब है?

दोस्तों 2023 में मकर संक्रांति 15 जनवरी को पड़ रही है। मकर संक्रांति का हिंदू धर्म के लिए विशेष महत्व है और इसे एक बहुत ही पवित्र अवकाश माना जाता है। यह पूरे देश में बहुत उत्साह के साथ मनाया जाता है, मकर संक्रांति के दिन गंगा को तैरना और दान करना विशेष रूप से महत्वपूर्ण है।

मकर संक्रांति नए साल का पहला त्योहार है। और यह त्यौहार देश के अलग-अलग हिस्सों में अपनी-अपनी परंपराओं के अनुसार मनाया जाता है। हिन्दू पंचांग के अनुसार मकर संक्रांति पर्व पोश मास की द्वादशी तिथि को मनाया जाता है, वैसे तो मकर संक्रांति पर्व 15 तारीख को ही मनाया जाएगा, लेकिन बता दें कि पंचांग में अंतर के कारण मकर संक्रांति का दिन होगा। कई जगहों पर 15 तारीख को भी मनाया जाता है। मकर संक्रांति के दिन सूर्य उत्तर की ओर अर्थात दक्षिणायन से उत्तरायण की ओर बढ़ता है। इस दिन से दिन बड़े और रातें छोटी हो जाती हैं। इसलिए इसे मकर संक्रांति कहते हैं।

हिंदू धर्म के अनुसार इस दिन से रुके हुए सभी शुभ कार्य फिर से शुरू हो जाते हैं।मकर संक्रांति के पवित्र दिन पवित्र नदियों में स्नान, पूजा और दान का विशेष महत्व माना जाता है। मकर संक्रांति के दिन सुबह स्नान कर और सूर्य देव की पूजा अर्चना कर कई चीजों का दान किया जाता है. तो आइए आपको बताते हैं मकर संक्रांति के दिन आपको क्या दान करना चाहिए ताकि आपके परिवार में सुख-समृद्धि बनी रहे –

मकर संक्रांति के दिन करें इन 11 चीजों का दान, घर में बनी रहेगी सुख-समृद्धि

1- तिल दान दोस्तों मकर संक्रांति 2023 के दिन ज्यादा से ज्यादा तिल दान करने की परंपरा चल रही है। शास्त्रों में मकर संक्रांति को तिल संक्रांति के नाम से जाना जाता है और इस दिन काले तिल और सफेद तिल से बनी चीजों का दान किया जाता है. ऐसा माना जाता है कि तेल दान करने से शनि देव प्रसन्न होते हैं और सूर्यदेव और भगवान विष्णु भी तिल के बहुत शौकीन होते हैं। मकर संक्रांति के दिन काले तिल का विशेष महत्व है क्योंकि कहा जाता है कि

कि भगवान शनि ने अपने पिता सूर्य देव को प्रसन्न करने के लिए अपने पिता सूर्य देव की काले तिलों से पूजा की थी। इस बात से प्रसन्न होकर सूर्य देव ने कहा कि वह जब भी मकर राशि में जाते हैं तो उस समय कोई भी व्यक्ति तिल का दान करता है। वह उनसे प्रसन्न होगा और उसी समय शनि दोष को दूर करेगा।

2- खिचड़ी द्वारा दान जीवनसाथी संक्रांति को खिचड़ी संक्रांति के नाम से भी जाना जाता है। इस दिन जो भी व्यक्ति खिचड़ी का दान करता है उसे विशेष फल और लाभ प्राप्त होता है। मकर संक्रांति के दिन विशेष रूप से चावल और काली उड़द की खिचड़ी का दान किया जाता है. दान से शनि देव प्रसन्न होते हैं और जिस किसी का भी शनि दोष होता है वह समाप्त हो जाता है। चावल दान करने से अक्षय फल भी मिलते हैं।

3- गुड़ दान – पावन पर्व मकर संक्रांति 2023 में गुड़ का दान करना या गुड़ से बनी चीजें खाने और दान करने से विशेष लाभ मिलता है. ज्योतिष के अनुसार गुड़ का संबंध गुरु ग्रह से है, इसलिए मकर संक्रांति पर गुड़ का दान करने से शनि गुरु और सूर्य तीनों प्रसन्न होते हैं।

4- नमक का दान शास्त्रों के अनुसार मकर संक्रांति के दिन नमक का दान करने से बुरी और बुरी शक्तियों का नाश होता है और आपका बुरा समय बदल जाता है। इसलिए मकर संक्रांति के दिन नमक का दान करना लाभकारी माना जाता है. मकर संक्रांति 2022

5- ऊनी वस्त्रों का दान- व्यक्ति की कुंडली से शनि दोष को खत्म करने के लिए मकर संक्रांति के दिन वही वस्त्र दान करना बहुत ही शुभ माना जाता है।

6- घी दानमकर संक्रांति के दिन घी या उससे बनी चीजों का दान करना बहुत फायदेमंद माना जाता है. घी का संबंध गुरु और सूर्य से भी है, इसलिए घी का दान करने से यश, यश और भौतिक सुख की प्राप्ति होती है। .

7- रेवडी द्वारा दान- मकर संक्रांति के दिन गंगा नदी में स्नान कर गरीबों को रेवड़ी दान करना बहुत ही शुभ माना जाता है।

8- नए वस्त्रों का दान- मकर संक्रांति के दिन गरीबों और जरूरतमंदों को वस्त्र दान करना बहुत ही शुभ माना जाता है।

9- पक्षियों को अनाज खिलाना चाहिए – हिंदू धर्म के अनुसार मकर संक्रांति के दिन पक्षियों को अनाज खिलाना बहुत ही शुभ माना जाता है।

10- गायों को हरा चारा खिलाना चाहिए मकर संक्रांति के दिन गायों को हरा चारा खिलाने से पुण्य की प्राप्ति होती है।

11- तेल का दान- शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए मकर संक्रांति के दिन सूर्य देव की पूजा कर तेल का दान करना चाहिए।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

Back to top button