उत्तर प्रदेश

Sonbhadra: यूपी से दिल्ली तक गांजा की तस्करी, उड़ीसा से लाई जा रही खेप, तीन गिरफ्तार

उड़ीसा से गांजे की एक खेप लाकर यूपी के विभिन्न जिलों के साथ-साथ यूपी से होते हुए बिहार और देश की राजधानी दिल्ली तक यह बात सामने आई है. सोनभद्र पुलिस (अपराध शाखा, हथिनाला पुलिस और एसएसटी की संयुक्त टीम) ने रविवार को हथिनाला तिराहे में इस उद्देश्य के लिए इस्तेमाल की जाने वाली हुंडई की ईओएन कार पर नजर रखी, जब उसमें गांजा की एक बड़ी खेप मिली।

कार में सवार तीन युवकों को हिरासत में लेकर पूछताछ की गई तो पता चला कि इस रैकेट के तार ओडिशा से उत्तर प्रदेश के विभिन्न जिलों से होते हुए बिहार के आरा इलाके और दिल्ली के पश्चिमी हिस्से से जुड़े हैं.

साथ ही वरिष्ठ अधिकारियों को सूचना देने के साथ ही आरोपियों की गिरफ्तारी की प्रक्रिया पूरी करने को चुनौती दी गई. जब्त गांजे (78 किलो 720 ग्राम) की बाजार कीमत करीब आठ लाख बताई जा रही है। इस रैकेट से और कौन जुड़े हैं और किन तरीकों से इनकी तस्करी की जाती है? इसका पता लगाया जा रहा है।

पल्ली के चुनाव को देखते हुए यूपी में मादक पदार्थों की तस्करी को रोकने के लिए सोनभद्र में सड़कों पर विशेष चौकसी बरती जा रही है. इस खंड में पुलिस उप महानिरीक्षक/निरीक्षक अमरेंद्र प्रसाद सिंह के निर्देशन में एवं अंचल अधिकारी ओबरा की देखरेख में अपराध शाखा, थाना हथिनाला पुलिस व एसएसटी की संयुक्त टीम हथिनाला तिराहे के पास वाहनों की जांच में लगी हुई थी.

वहीं वाहन संख्या OD 33 S8722 वाली Hyundai की EON कार वहां पहुंची. उसे रोककर जांच की गई तो उसमें 78 किलो 720 ग्राम गांजा (आठ लाख रुपये की अनुमानित कीमत) रखा हुआ मिला।

इसके बारे में दुर्गा प्रसाद भुइया, 27 वर्षीय पुत्र जदुमणि, बेरहामपुर, थाना हल्दिया प्रादार, जिला गंजम, उड़ीसा, अच्युत नायक, 28 वर्षीय स्व पुत्र। मदन मोहन नायक निवासी कंबारी साही, रामगढ़ थाना, गजपति जिला उड़ीसा, अरुण कुमार दुर्गा (30) पुत्र माकंद दुर्गा निवासी मलकान गिरी कालोनी, मलकान गिरी थाना, मलकान जिला, उड़ीसा को गिरफ्तार कर गंभीर पूछताछ की गयी.

पता चला कि जो माल उड़ीसा ले जाया जा रहा था, उसे पड़ोसी जिलों वाराणसी और प्रयागराज में डंप करने की तैयारी की जा रही थी. पूछताछ में पता चला कि इससे पहले भी वह अन्य लग्जरी वाहनों के साथ गांजे की खेप लेकर यूपी के पूर्वी और पश्चिमी दोनों हिस्सों के कई जिलों में और बिहार के आरा इलाके और पश्चिमी हिस्से में इसका सेवन कर चुका था. दिल्ली का काम इस दौरान आरोपी ने और भी कई अहम जानकारियां पुलिस को मुहैया कराई हैं, जिसके आधार पर जानकारियां जुटाई जाती हैं।

वह सफल टीम के नेता थे

निरीक्षक साजिद सिद्दीकी जिम्मेदार एसओजी, उप निरीक्षक रवींद्र प्रसाद स्टेशन जिम्मेदार हथिनाला, उप निरीक्षक सरोजमा सिंह जिम्मेदार निगरानी, ​​उप निरीक्षक अमित त्रिपाठी जिम्मेदार स्वाट और उनकी टीम सफलता में शामिल थी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button