इंदौर न्यूज़

IDA संचालक मण्डल की बैठक संपन्न, कई महत्वपूर्ण निर्णयों पर लगी मुहर

इंदौर विकास प्राधिकरण बोर्ड की बैठक सोमवार, 7 मार्च, 2022 को हुई। जयपाल सिंह चावड़ा, अध्यक्ष, मनीष सिंह, कलेक्टर, इंदौर, सुश्री. प्रतिभा पाल, आयुक्त नगर निगम इंदौर बीके चौहान, मुख्य अभियंता, लोक निर्माण विभाग, इंदौर, श्री नरेंद्र पांडव, वन संरक्षक, इंदौर, श्री एसके मुद्गल, संयुक्त निदेशक, नगर एवं ग्राम निवेश विभाग, इंदौर, श्री अजय श्रीवास्तव, अधीक्षण अभियंता, पीएचई विभाग, इंदौर और श्री एस. विवेक श्रोत्रिया, मुख्य कार्यकारी अधिकारी, ईवीपी, इंदौर उपस्थित थे।

इंदौर विकास योजनान्तर्गत टीपीएस-01, टीपीएस-03, टीपीएस-04, टीपीएस-05 एवं टीपीएस-08 क्षेत्र में क्रियान्वयन हेतु भू-स्वामियों की आवश्यकताओं एवं उपरोक्त योजनाओं पर आपत्तियों को सुनकर योजना का प्रारूप तैयार किया गया है। , योजनाओं को आवश्यकता के अनुसार संशोधित किया गया है। इस प्रकार तैयार की गई योजनाओं को बोर्ड द्वारा अनुमोदित किया गया था।

शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में 50(3) के अनुसार प्रकाशित प्रारूप योजना पर प्राप्त आपत्तियों/प्रस्तावों पर 50(9) के अनुसार गठित समिति द्वारा भूस्वामी को स्वयं उसकी भूमि पर उचित मुआवजा प्रदान करने हेतु निवेश (संशोधन) अधिनियम-2019। माना। प्राप्त आपत्तियों/प्रस्तावों पर विचार कर अंतिम निर्णय समिति द्वारा की गई अनुशंसाओं को प्रारूप योजना में शामिल करने के बाद लिया गया। योजनावार आच्छादित भूमि और अन्य विवरण नीचे देखे जा सकते हैं

इस तरह इन योजनाओं में करीब 29 किलोमीटर सड़कें बनाई जाएंगी। इन योजनाओं के आकार लेने के साथ ही एक नया इंदौर आकार लेना शुरू कर देगा।

प्राधिकरण के अध्यक्ष मो. चावड़ा ने कहा कि आईडीए के 50 प्रतिशत बिल्ट-अप प्लॉट जमींदारों को दिए जाएंगे। सिस्टम के लागू होने के साथ ही इनका विकास कार्य शुरू हो जाएगा। इसके बाद बोर्ड की बैठक में 1251 करोड़ रुपये की प्रशासनिक स्वीकृति पहले ही दी जा चुकी है।

बोर्ड द्वारा आईएसबीटी सिस्टम नंबर 139-169ए (एमआर-10) गांव सुखलिया में। माननीय प्रधानमंत्री जी की घोषणा के अनुसार उपरोक्त का नाम तांत्या भील बस स्टैंड रखने का निर्णय लिया गया।

बोर्ड द्वारा योजना क्रमांक 151 एवं 169-बी के शेष कार्यों के लिए तृतीय चरण में विकास कार्य हेतु प्राप्त निविदाओं में से न्यूनतम निविदाकर्ता से निविदा स्वीकृत की गयी। उक्त निविदा स्वीकृत होने से सुपर कॉरिडोर के विकास कार्यों में तेजी लाई जाएगी।

एक अन्य महत्वपूर्ण निर्णय में इंदौर शहर के खजराना जंक्शन पर क्रॉसिंग के निर्माण के लिए अनियोजित वस्तुओं में 57.50 करोड़ रु. प्रशासनिक स्वीकृति प्रदान की गई, उल्लेखनीय है कि उपरोक्त परिवर्तन को दो पृष्ठों वाली 6-फाइल का प्रस्तावित किया गया है। यह क्रॉसिंग मेट्रो के समानांतर होगी और इसकी लंबाई 600 मीटर होगी. एक अन्य निर्णय में योजना के शीर्ष के तहत लवकुश जंक्शन पर एमआर-10 का समानांतर ट्रांजिशन बनाने का निर्णय लिया गया, जिसकी लागत लगभग 80.00 करोड़ रुपये प्रस्तावित है।

एमआर-12 रोड से निकलने के लिए जगह इस ब्रिज के नीचे से मिलेगी। यहां यह भी उल्लेखनीय है कि प्राधिकरण में हाल ही में जन प्रतिनिधियों की बैठक में प्राप्त प्रस्तावों पर लिए गए निर्णयों के अनुसार इन ट्रांजिशन का निर्माण प्रस्तावित किया जाएगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button