उत्तर प्रदेश

UP Election 2022: अब मोदी और योगी के गढ़ में होगी BJP की परीक्षा, छठे-सातवें चरण से निकलेगा बड़ा सियासी संदेश

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के पांच चरण समाप्त होने के बाद अब शेष दो चरण भाजपा के लिए काफी अहम माने जा रहे हैं। छठे और सातवें चरण (यूपी चुनाव के छठे और सातवें चरण) में बीजेपी की राजनीतिक परीक्षा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गढ़ में होगी. यही कारण है कि शेष दो चरणों के उम्मीदवारों ने इन दो महान नेताओं के कार्यक्रमों को आयोजित करने में अपनी पूरी कोशिश की। हालांकि पहले के दौर में भी इन दोनों नेताओं की काफी मांग रही है, लेकिन अब इन दोनों नेताओं की हैसियत पर वोट होगा.

छठे चरण में गोरखपुर के आसपास के जिलों में मतदान होगा, जो योगी का गढ़ माना जाता है, जबकि सातवें चरण में वाराणसी के आसपास के जिलों में मतदान होगा, जिसे प्रधानमंत्री मोदी का भाग्य माना जाता है. शेष उम्मीदवार। बीजेपी ने इन दोनों चरणों में सीटों पर पूरी ताकत झोंक दी है और ये दोनों चरण राजनीतिक दृष्टि से बीजेपी के लिए काफी अहम माने जा रहे हैं.

योगी के गढ़ में अब होगा मतदान

राज्य के छठे चरण के दौरान गोरखपुर और आसपास के जिलों की सीटों पर 3 मार्च 2022 को मतदान होगा. गोरखपुर और आसपास के जिलों पर प्रधानमंत्री योगी आदित्यनाथ की मजबूत पकड़ मानी जाती है। वह गोरखपुर की संसदीय सीट से पांच बार लोकसभा चुनाव भी जीत चुके हैं। वह गोरखनाथ मंदिर के महंत होने के साथ-साथ प्रधानमंत्री और भाजपा के स्टार कैंपेन भी हैं। ऐसे में योगी का गढ़ माने जाने वाले इलाके में छठे चरण में बीजेपी की परीक्षा होनी चाहिए.

प्रधानमंत्री के भाग्य का भी होगा फैसला

छठे चरण में गोरखपुर समेत देवरिया, कुशीनगर, महाराजगंज, बस्ती, सिद्धार्थनगर, संत कबीर नगर, बलिया, बलरामपुर और अंबेडकर नगर में मतदान होगा. ये सभी जिले मुख्यमंत्री योगी के प्रभाव वाले क्षेत्र माने जाते हैं। इस बार गोरखपुर शहर के सभा स्थल से खुद प्रधानमंत्री प्रत्याशी हैं। हालांकि, वे बीजेपी उम्मीदवारों को अपने से ज्यादा अन्य क्षेत्रों में जीत दिलाने की कोशिश कर रहे हैं। छठे चरण में अपने प्रभाव वाले क्षेत्रों में मतदान से प्रधानमंत्री योगी की प्रतिष्ठा दांव पर लगी है. इस चरण में बीजेपी को कई उम्मीदें हैं और अब यह देखना एक सवाल है कि योगी इन उम्मीदों पर खरा उतरने में कहां तक ​​कामयाब हो पाते हैं.

सातवें चरण में पीएम का संसदीय क्षेत्र भी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वाराणसी के सांसद हैं, जिन्हें 2014 से पूर्वी उत्तर प्रदेश का प्रमुख केंद्र माना जाता है। राज्य के सातवें और अंतिम चरण में वाराणसी और पड़ोसी जिलों में सीटों के लिए लड़ने वाले उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला किया जाएगा। 2017 के नगरपालिका चुनाव और 2019 के लोकसभा चुनाव में प्रधानमंत्री मोदी ने वाराणसी को केंद्र बनाकर आसपास के जिलों में प्रचार किया. इन दोनों चुनावों में पीएम मोदी के सत्ता में आने के बाद बीजेपी अन्य पार्टियों को काफी पीछे छोड़ने में कामयाब रही. यही वजह है कि अब सातवें चरण की लड़ाई में हिस्सा ले रहे उम्मीदवारों को पीएम मोदी की सत्ता पर अधिक भरोसा है.

पूर्वांचल में प्रधानमंत्री मोदी ने किया सत्ता का प्रयोग

प्रधानमंत्री मोदी रविवार को वाराणसी पहुंचे थे और इस दौरान उन्होंने वाराणसी जिले के आठ सभा स्थलों के लिए जिम्मेदार बूथ को चुनावी नेतृत्व और जीत का मंत्र दिया था. इस दौरान उन्होंने काशी और पूर्वांचल से संबंध जाहिर करने के साथ ही सपा प्रमुख अखिलेश यादव पर भी जमकर निशाना साधा. अब बचे हुए दिनों में पूर्वांचल के विभिन्न जिलों में प्रधानमंत्री मोदी के साथ कई जनसभाएं होंगी. सातवें चरण के प्रचार का शोर खत्म होने से पहले प्रधानमंत्री मोदी 4 मार्च को फिर वाराणसी जाएंगे. इस दौरान उनकी जनसभा और रोड शो का कार्यक्रम भी तय किया गया है. चुनाव प्रचार खत्म होने से पहले वह 5 मार्च को दिल्ली के लिए रवाना हो रहे हैं. ऐसे में पूर्वांचल के उम्मीदवारों की नजर पीएम मोदी के दौरे से होने वाले राजनीतिक फायदे पर टिकी है.

अंतिम चरण में इन जिलों में होगा मतदान

सातवें चरण में पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी और आजमगढ़, मऊ, गाजीपुर, भदोही, मिर्जापुर, जौनपुर, सोनभद्र और चंदौली में मतदान होगा. इन सभी जिलों से जो राजनीतिक संदेश आएगा वह पीएम मोदी से जुड़ा होगा और यही वजह है कि इन सभी जिलों में पीएम मोदी की प्रतिष्ठा दांव पर लगी है. बीजेपी ने पूर्वी उत्तर प्रदेश में इन जगहों पर निर्णायक बढ़त हासिल करने के लिए पूरी ताकत झोंक दी है.

पूर्वांचल में भी सक्रिय हैं अमित शाह और राजनाथ

गृह मंत्री अमित शाह भी छठे और सातवें चरण में बीजेपी उम्मीदवारों की स्थिति मजबूत करने में काफी सक्रिय हैं. वे काशी को केंद्र बनाकर आसपास के जिलों में प्रचार में जुटे हैं. पूर्वांचल जिलों में शाह के अलावा रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा भी काफी सक्रिय हैं. जिन इलाकों में वोट खत्म हुआ है वहां पूर्वी उत्तर प्रदेश में भी पार्टी पदाधिकारियों को चुनावी जिम्मेदारी सौंपी गई है. अब सबकी नजर पूर्वी उत्तर प्रदेश से आ रहे सियासी संदेश पर है.

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

Back to top button